MAA(a hindi poem)

sima sach
sima sach / Blog / 6 yrs ago /
  11

माँ



नि:शब्द है

वो सुकून
जो मिलता है
माँ की गोदि मे
सर रख कर सोने मे

वो अश्रु
जो बहते है
माँ के सीने से
चिपक कर रोने मे

वो भाव
जो बह जाते है अपने ही आप

वो शान्ति
जब होता है ममता से मिलाप

वो सुख
जो हर लेता है
सारी पीडा और उलझन

वो आनन्द
जिसमे स्वच्छ
हो जाता है मन


.......................................................
.......................................................

माँ 

रास्तो की दूरियाँ
फिर भी तुम हरदम पास

जब भी
मै कभी हुई उदास

न जाने कैसे?
समझे तुमने मेरे जजबात

करवाया
हर पल अपना अहसास

और
याद  हर वो बात दिलाई

  जब
मुझे दी थी घर से विदाई

तेरा
हर शब्द गूँजता है
कानो मे सन्गीत बनकर

जब हुई
जरा सी भी दुविधा
दिया साथ तुमने मीत बनकर

दुनिया 
तो बहुत देखी
पर तुम जैसा कोई न देखा

तुम 
माँ हो मेरी
कितनी अच्छी मेरी भाग्य-रेखा

पर
तरस गई हूँ


तेरी
 उँगलिओ के स्पर्श को
जो चलती थी मेरे बालो मे

तेरा
वो चुम्बन
जो अकसर  करती थी
तुम मेरे गालो पे

वो
स्वादिष्ट पकवान
जिसका स्वाद
नही पहचाना मैने इतने सालो मे

वो मीठी सी झिडकी
वो प्यारी सी लोरी
वो रूठना - मनाना
और कभी - कभी
तेरा सजा सुनाना
वो चेहरे पे झूठा गुस्सा
वो दूध का गिलास
जो लेकर आती तुम मेरे पास

मैने पिया कभी आँखे बन्द कर
कभी गिराया तेरी आँखे चुराकर

 आज कोई नही पूछता ऐसे
???????????????????
तुम मुझे कभी प्यार से
कभी डाँट कर खिलाती थी जैसे


******************************************


rishabh / / 4 months ago
rishabh

like ...............................it !!!!!!!!!!!!!!!!


sima sach / / 6 yrs ago
sima sach

dhanayvaad dinesh ji.........seema


Dinesh1363 / / 6 yrs ago
Dinesh1363

butiful


sima sach / / 6 yrs ago
sima sach

hi ehsaas , aapke adbhut comment ke liye dhanyvaad......seema


sima sach / / 6 yrs ago
sima sach

namskaar geekunnel ji and wel-come back . shaayad aap hame bhool hi gaye the. chalo yaad to kiya  .thanks for ur comments ,have a nice day......seema


sima sach / / 6 yrs ago
sima sach

hi namita ,
thanks for ur nice comments.have a nice day......seema


Ehsaas / / 6 yrs ago
Ehsaas

seema 
adhbhoot...


geekunnel / / 6 yrs ago
geekunnel

bahut achha likha aapne!!!


namitasachan / / 6 yrs ago
namitasachan

seema
yah kavita bahut pyari hai .bilkul seedhe dil se nikal kar dil tak jaatee hai.
namita


sima sach / / 6 yrs ago
sima sach

ji haa yash ji maa ,maa hoti hai ,maa jaisa koi nahi . thanks for your comments.......seema