MAI NAARI ( A hindi poem on WOMEN'S DAY )

sima sach
sima sach / 5 yrs ago /
  15

अंतर्राष्ट्रीय नारी दिवस पर विश्व भर की सभी महिलाओं को हार्दिक बधाई एवम शुभ-कामनाएं

नारी दिवस का नारा

 

१. जब नारी में शक्ति सारी
फिर क्यों नारी हो बेचारी 

२. नारी का जो करे अपमान
जान उसे नर पशु समान

३.हर आंगन की शोभा नारी
उससे ही बसे दुनिया प्यारी 

४.राजाओं की भी जो माता
क्यों हीन उसे समझा जाता

५.अबला नहीं नारी है सबला
करती रहती जो सबका भला 

६.नारी को जो शक्ति मानो
सुख मिले बात सच्ची जानो

७.क्यों नारी पर ही सब बंधन
वह मानवी , नहीं व्यक्तिगत धन 

८.सुता बहु कभी माँ बनकर
सबके ही सुख-दुख को सहकर
अपने सब फर्ज़ निभाती है
तभी तो नारी कहलाती है 

९.आंचल में ममता लिए हुए
नैनों से आंसु पिए हुए
सौंप दे जो पूरा जीवन
फिर क्यों आहत हो उसका मन

१०.नारी ही शक्ति है नर की
नारी ही है शोभा घर की
जो उसे उचित सम्मान मिले
घर में खुशियों के फूल खिलें 

११.नारी सीता नारी काली
नारी ही प्रेम करने वाली
नारी कोमल नारी कठोर
नारी बिन नर का कहां छोर 

१२.नर सम अधिकारिणी है नारी
वो भी जीने की अधिकारी
कुछ उसके भी अपने सपने
क्यों रौंदें उन्हें उसके अपने

१३.क्यों त्याग करे नारी केवल
क्यों नर दिखलाए झूठा बल
नारी जो जिद्द पर आ जाए
अबला से चण्डी बन जाए
उस पर न करो कोई अत्याचार
तो सुखी रहेगा घर-परिवार 

१४.जिसने बस त्याग ही त्याग किए
जो बस दूसरों के लिए जिए
फिर क्यों उसको धिक्कार दो
उसे जीने का अधिकार दो

१५.नारी दिवस बस एक दिवस
क्यों नारी के नाम मनाना है
हर दिन हर पल नारी उत्तम
मानो , यह न्या ज़माना है



मैं नारी


मैं नारी सदियों से
स्व अस्तित्व की खोज में
फिरती हूँ मारी-मारी
कोई न मुझको माने जन
सब ने समझा व्यक्तिगत धन
जनक के घर में कन्या धन
दान दे मुझको किया अर्पण
जब जन्मी मुझको समझा कर्ज़
दानी बन अपना निभाया फर्ज़
साथ में कुछ उपहार दिए
अपने सब कर्ज़ उतार दिए
सौंप दिया किसी को जीवन
कन्या से बन गई पत्नी धन
समझा जहां पैरों की दासी
अवांछित ज्यों कोई खाना बासी
जब चाहा मुझको अपनाया
मन न माना तो ठुकराया
मेरी चाहत को भुला दिया
कांटों की सेज़ पे सुला दिया
मार दी मेरी हर चाहत
हर क्षण ही होती रही आहत
माँ बनकर जब मैनें जाना
थोडा तो खुद को पहिचाना
फिर भी बन गई मैं मातृ धन
नहीं रहा कोई खुद का जीवन
चलती रही पर पथ अनजाना
बस गुमनामी में खो जाना
कभी आई थी सीता बनकर
पछताई मृगेच्छा कर कर
लांघी क्या इक सीमा मैने
हर युग में मिले मुझको ताने
राधा बनकर मैं ही रोई
भटकी वन वन खोई खोई
कभी पांचाली बनकर रोई
पतियों ने मर्यादा खोई
दांव पे मुझको लगा दिया
अपना छोटापन दिखा दिया
मैं रोती रही चिल्लाती रही
पतिव्रता स्वयं को बताती रही
भरी सभा में बैठे पांच पति
की गई मेरी ऐसी दुर्गति
नहीं किसी का पुरुषत्व जागा
बस मुझ पर ही कलंक लागा
फिर बन आई झांसी रानी
नारी से बन गई मर्दानी
अब गीत मेरे सब गाते हैं
किस्से लिख-लिख के सुनाते हैं
मैने तो उठा लिया बीडा
पर नहीं दिखी मेरी पीडा
न देखा मैनें स्व यौवन
विधवापन में खोया बचपन
न माँ बनी मै माँ बनकर
सोई कांटों की सेज़ जाकर
हर युग ने मुझको तरसाया
भावना ने मुझे मेरी बहकाया
कभी कटु कभी मैं बेचारी
हर युग में मै भटकी नारी
*********************************
मेरा प्रणाम है पहली नारी सीता को जिसने एक सीमा (लक्ष्मण रेखा ) को तोडकर
भले ही जीवन भर अथाह दुख सहे लेकिन आधुनिक नारी को आजादी का मार्ग दिखा दिया


धन्य हो तुम माँ सीता
तुमने नारी का मन जीता
बढाया था तुमने पहला कदम
जीवन भर मिला तुम्हें बस गम
पर नई राह तो दिखला दी
नारी को आज़ादी सिखला दी
तोडा था तुमने इक बंधन
और बदल दिया नारी जीवन
तुमने ही नव-पथ दिखलाया
नारी का परिचय करवाया
तुमने ही दिया नारी को नाम
हे माँ तुझे मेरा प्रणाम

***************************************





navneetkumarbakshi / / 6 months ago
navneetkumarbakshi

You have poured all your feelings for "Nari". Have asked many questions from the society and have pleaded to consider, to care...par kab hamara samaj badalega, kab hamare vichar badaleinge, ye to bhagwan hi janta hai. Aisee koyee hawa chal to nahin rahi lagati. As regards Sita- mujhe to nahin lagata ki usne koyee aisee raah dikhayee, of being bold and assertive that women should follow her example.
Navneet


SANKLAP PARIHAR / / 6 months ago
SANKLAP PARIHAR

A VERY HAPPY WOMEN'S DAY TO ALL WOMEN'S ...........SANKLAP D. PARIHAR


navneetkumarbakshi / / 12 months ago
navneetkumarbakshi

Good. Wish people could see nari with respect she deserves. Sita didn't cross Lakshman Rekha for loitering around...she crossed it to give Bhiksha to a Sadhu. It's sad that with such cultural heritage the women in India are ill treated, looked down upon, seen as objects of lust.

Navneet


Renu / / 7 months ago
Renu

Happy Women's day , this poem is very energetic and meaningful poem


Anneshwa / / 12 months ago
Anneshwa

Wonderful & realistic words.


Meenakshi / / 12 months ago
Meenakshi

hi seema
my daughter recited your poem MAIN NAARI in her school and won first prize all because of the realistic portrayal of women in it.
thanks for writing such good poem.


sima sach / / 12 months ago
sima sach

GOD BLESS HER and wish all the best for feature .


Manya Singh / / 1 year ago
Manya Singh

MY GRAND SALUTE TO ALL INDIAN WOMEN FOR THEIR HARDWORK.


nadia khan / / 1 year ago
nadia khan

lovely


Vandana Sharma   Eternal Emotions

NAARI TO MAHAAN HAI, SABSE UUNCHAA USKA STHAN HAI:)


Contest Entries (24)

Premlatha Maruthavanan
Paradise on my Roof top
 I am premlatha from chennai . One of my passion in life is gardening . My garden is a place where I find myself , when I need to lose myself .Gardening has been my hobby ever since I learnt my
1 day ago
namitasachan
An overview of my terrace.
 These are the blooms of Wild Shatavari. The thorny creeper snakes upward from my first floor terrace to roof top. It''s a hardy plant and these were the first blossoms after many years. But after
1 day ago
Madhur Dharmadhikari
Slice of nature
 The Balcony. I collect chimes and bells and for me, they add to the balcony experience. The lovely sounds they make is heavenly. Got those ceramic pots from roadside vendors for real cheap. But
1 day ago
Hima
Harvest notes: September
 Asparagus : As temperatures warm up, check asparagus plants daily to see what is ready to harvest. Early morning is when asparagus is at its best. Choose young shoots around 20cm long, snapping
1 day ago
Mary Sonia
My Happy Garden
 Surrounding yourself with green trees and beautiful garden not only makes you cheerful but improves your health too. Getting outdoors and working a couple of hours on the garden will refresh your
2 days ago
Sonali
Pieces of Art At My Home
 These are few images from my home that I had taken. Each and every piece was handpicked by my grand father. His love of collecting pieces of art is very evident is the images below. The
2 days ago
prakash Rajasekaran
praggi's terrace garden - a garden with a limited space but with limitless passion :)
 hi , I am Prakash Rajasekaran and i am proud to introduce myself as an organic terrace gardener . A garden which started with just one rose plant has now become the most lovable place at my home
3 days ago
Taste Buds
Fresh From My Garden
 Dear all, This is my garden flourishing with beautiful flowers & healthy - organic veggies. Gardening is a wonderful way to fruitfully use your time...& its also a great STRESS BUSTER. My
4 days ago
namitasachan
Bulbous beauties of my terrace
 I have a very small terrace and that too is a passage to our first floor. I keep pots in two rows on either side leaving the space in the middle to walk. But I have tried to maximize the use of
6 days ago
Encourage The Contestants
by commenting on their post

A Plant Lover's Journey  by Ajeet Sharma

A Plant Lover's Journey

Inside Outside Contest! ×