MAI NAARI ( A hindi poem on WOMEN'S DAY )

sima sach
sima sach / 5 yrs ago /
  15

अंतर्राष्ट्रीय नारी दिवस पर विश्व भर की सभी महिलाओं को हार्दिक बधाई एवम शुभ-कामनाएं

नारी दिवस का नारा

 

१. जब नारी में शक्ति सारी
फिर क्यों नारी हो बेचारी 

२. नारी का जो करे अपमान
जान उसे नर पशु समान

३.हर आंगन की शोभा नारी
उससे ही बसे दुनिया प्यारी 

४.राजाओं की भी जो माता
क्यों हीन उसे समझा जाता

५.अबला नहीं नारी है सबला
करती रहती जो सबका भला 

६.नारी को जो शक्ति मानो
सुख मिले बात सच्ची जानो

७.क्यों नारी पर ही सब बंधन
वह मानवी , नहीं व्यक्तिगत धन 

८.सुता बहु कभी माँ बनकर
सबके ही सुख-दुख को सहकर
अपने सब फर्ज़ निभाती है
तभी तो नारी कहलाती है 

९.आंचल में ममता लिए हुए
नैनों से आंसु पिए हुए
सौंप दे जो पूरा जीवन
फिर क्यों आहत हो उसका मन

१०.नारी ही शक्ति है नर की
नारी ही है शोभा घर की
जो उसे उचित सम्मान मिले
घर में खुशियों के फूल खिलें 

११.नारी सीता नारी काली
नारी ही प्रेम करने वाली
नारी कोमल नारी कठोर
नारी बिन नर का कहां छोर 

१२.नर सम अधिकारिणी है नारी
वो भी जीने की अधिकारी
कुछ उसके भी अपने सपने
क्यों रौंदें उन्हें उसके अपने

१३.क्यों त्याग करे नारी केवल
क्यों नर दिखलाए झूठा बल
नारी जो जिद्द पर आ जाए
अबला से चण्डी बन जाए
उस पर न करो कोई अत्याचार
तो सुखी रहेगा घर-परिवार 

१४.जिसने बस त्याग ही त्याग किए
जो बस दूसरों के लिए जिए
फिर क्यों उसको धिक्कार दो
उसे जीने का अधिकार दो

१५.नारी दिवस बस एक दिवस
क्यों नारी के नाम मनाना है
हर दिन हर पल नारी उत्तम
मानो , यह न्या ज़माना है



मैं नारी


मैं नारी सदियों से
स्व अस्तित्व की खोज में
फिरती हूँ मारी-मारी
कोई न मुझको माने जन
सब ने समझा व्यक्तिगत धन
जनक के घर में कन्या धन
दान दे मुझको किया अर्पण
जब जन्मी मुझको समझा कर्ज़
दानी बन अपना निभाया फर्ज़
साथ में कुछ उपहार दिए
अपने सब कर्ज़ उतार दिए
सौंप दिया किसी को जीवन
कन्या से बन गई पत्नी धन
समझा जहां पैरों की दासी
अवांछित ज्यों कोई खाना बासी
जब चाहा मुझको अपनाया
मन न माना तो ठुकराया
मेरी चाहत को भुला दिया
कांटों की सेज़ पे सुला दिया
मार दी मेरी हर चाहत
हर क्षण ही होती रही आहत
माँ बनकर जब मैनें जाना
थोडा तो खुद को पहिचाना
फिर भी बन गई मैं मातृ धन
नहीं रहा कोई खुद का जीवन
चलती रही पर पथ अनजाना
बस गुमनामी में खो जाना
कभी आई थी सीता बनकर
पछताई मृगेच्छा कर कर
लांघी क्या इक सीमा मैने
हर युग में मिले मुझको ताने
राधा बनकर मैं ही रोई
भटकी वन वन खोई खोई
कभी पांचाली बनकर रोई
पतियों ने मर्यादा खोई
दांव पे मुझको लगा दिया
अपना छोटापन दिखा दिया
मैं रोती रही चिल्लाती रही
पतिव्रता स्वयं को बताती रही
भरी सभा में बैठे पांच पति
की गई मेरी ऐसी दुर्गति
नहीं किसी का पुरुषत्व जागा
बस मुझ पर ही कलंक लागा
फिर बन आई झांसी रानी
नारी से बन गई मर्दानी
अब गीत मेरे सब गाते हैं
किस्से लिख-लिख के सुनाते हैं
मैने तो उठा लिया बीडा
पर नहीं दिखी मेरी पीडा
न देखा मैनें स्व यौवन
विधवापन में खोया बचपन
न माँ बनी मै माँ बनकर
सोई कांटों की सेज़ जाकर
हर युग ने मुझको तरसाया
भावना ने मुझे मेरी बहकाया
कभी कटु कभी मैं बेचारी
हर युग में मै भटकी नारी
*********************************
मेरा प्रणाम है पहली नारी सीता को जिसने एक सीमा (लक्ष्मण रेखा ) को तोडकर
भले ही जीवन भर अथाह दुख सहे लेकिन आधुनिक नारी को आजादी का मार्ग दिखा दिया


धन्य हो तुम माँ सीता
तुमने नारी का मन जीता
बढाया था तुमने पहला कदम
जीवन भर मिला तुम्हें बस गम
पर नई राह तो दिखला दी
नारी को आज़ादी सिखला दी
तोडा था तुमने इक बंधन
और बदल दिया नारी जीवन
तुमने ही नव-पथ दिखलाया
नारी का परिचय करवाया
तुमने ही दिया नारी को नाम
हे माँ तुझे मेरा प्रणाम

***************************************


navneetkumarbakshi / / 5 months ago
navneetkumarbakshi

You have poured all your feelings for "Nari". Have asked many questions from the society and have pleaded to consider, to care...par kab hamara samaj badalega, kab hamare vichar badaleinge, ye to bhagwan hi janta hai. Aisee koyee hawa chal to nahin rahi lagati. As regards Sita- mujhe to nahin lagata ki usne koyee aisee raah dikhayee, of being bold and assertive that women should follow her example.
Navneet


SANKLAP PARIHAR / / 5 months ago
SANKLAP PARIHAR

A VERY HAPPY WOMEN'S DAY TO ALL WOMEN'S ...........SANKLAP D. PARIHAR


navneetkumarbakshi / / 11 months ago
navneetkumarbakshi

Good. Wish people could see nari with respect she deserves. Sita didn't cross Lakshman Rekha for loitering around...she crossed it to give Bhiksha to a Sadhu. It's sad that with such cultural heritage the women in India are ill treated, looked down upon, seen as objects of lust.

Navneet


Renu / / 6 months ago
Renu

Happy Women's day , this poem is very energetic and meaningful poem


Anneshwa / / 11 months ago
Anneshwa

Wonderful & realistic words.


Meenakshi / / 11 months ago
Meenakshi

hi seema
my daughter recited your poem MAIN NAARI in her school and won first prize all because of the realistic portrayal of women in it.
thanks for writing such good poem.


sima sach / / 11 months ago
sima sach

GOD BLESS HER and wish all the best for feature .


Manya Singh / / 1 year ago
Manya Singh

MY GRAND SALUTE TO ALL INDIAN WOMEN FOR THEIR HARDWORK.


nadia khan / / 1 year ago
nadia khan

lovely


Vandana Sharma   Eternal Emotions

NAARI TO MAHAAN HAI, SABSE UUNCHAA USKA STHAN HAI:)



couples

Monsoon Romance Contest

View Popularity Board

Contest Entries

Priyadarshi Dutta
Monsoon makeover
 By Priyadarshi DuttaNikhila stood in the terrace of her top floor flat in Dadar looking at the waterlogged patches of the road. The rains had heavily walloped the Mumbai the previous afternoon.
5 days ago
Vignesh Karnam
The Dawn of Rain.
 The rain always gathered all of my courage. I always loved the rain. I stepped out on a whim and noticed myself melting in the presence of another being. The presence so divine and lovely , I
5 days ago
Alka Girdhar
Mellowing Monsoons
 The rain fell incessantly in a continuous noisy torrent, but its seemingly immaculate fall was a mere puppet in the hands of angry gushing winds that made it sway this way and that way, this way
5 days ago
MeghnaVinod
THE LOVE OF MY LIFE IS HERE
 THE LOVE OF MY LIFEBangalore. 13 February. 6pm.Samiksha: It was raining. Raining hard. I could hear the raindrops falling on our tilled roof pitter patter. I just stood there enjoying the slight
5 days ago
TheBigThinkg Blog
The Lusty Love..
 I looked at her longingly..There she was, probably with her little son next to her..I am new to this village. I had come here with four of my friends. The sacrifice festival of this village is
5 days ago
DhAmodharan
pardhaeshi ! pardhaeshi !! jAnA naheem!!! mujae choad kae !, mujae choad kae !!... Hopefully, a BhArath-shaking real story !
With the heady mix of train and rain descending on our poor Dhushyanth, the hero of this real story, name changed, who wAs really feeling like an elated yAthri, in that distant land of RAjAsthAn, without the problems of daily life weighing on him, the beat
5 days ago
novelideas
SPEECHLESS
 I waitfor this distant horizonto gather scattered petalsof crimson glory from its canvassinto a spongy blanketbillowing to spread its wingswith the whispering zephyrI wishnow to be let into those
5 days ago
chitra viswanathan
The magic of the rain after a storm
 “Swetha, are you ready ” asked her mother, Prema. “It is getting late. It will not be nice if we go late to receive Venkatesh.” They all got into the car. There was great
5 days ago
Tripti
All I want is you..
  26th June, 2014 Mumbai 18:30 hours"Feeling numb." "As I pen this down, I''m sitting closer to the entrance, staring outside my tent so that the wetness hits me. I''m not enjoying it,
5 days ago
Shalini Prasad
The Magic the Rain Brings - Part 3
 This year, people expected a lot of rain. To say that they were disappointed would be an understatement. The monsoon season was as dry as the summer. The farmers were suffering, the lakes were
5 days ago